इंदौर शहर के चम्पाबाग में मीटर रीडर ने 2 साल अनुमानित रीडिंग लेने का रिकॉर्ड बनाया

Spread the love

इंदौर शहर के चम्पाबाग में मीटर रीडर ने 2 साल अनुमानित रीडिंग लेने का रिकॉर्ड बनाया

वेसे तो पुरे भारत में हर राज्य के विद्धुत विभाग के हर झोन में आपको 40% – 60% मीटर रीडर द्वारा रीडिंग ठीक से न लेने की वजह से उपभोगता को सही बिल न आने की समस्या आने का तो सुना ही होगा पर MPEB O.P.H South Ware House Road झोन के अंतर्गत आने वाले चम्पाबाग क्षेत्र में मीटर रीडर ने अनुमानित रीडिंग के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए और अक्टूबर 2016 से अगस्त 2018 तक मतलब पुरे 2 साल तक ठीक से रीडिंग नहीं ली और पिछली वाचन रीडिंग में पुरे 2 साल से 2310 रीडिंग ही बिल में दर्शा रही है | इस बिल में हर महीने 31 यूनिट की खपत का बिल महीनो से आ रही है जबकि ये दुकान एक गोडाउन है जो दिन में थोड़े समय के लिए ही खुलता है और यहाँ पर बिजली कोई कोई खपत नहीं और किसी तरह की कोई मशीनरी भी नहीं लगी पर फिर भी उपभोगता से हर महीने 31 यूनिट से 60 यूनिट तक का बिल उपभोगता को भेजा गया और उपभोगता ने वो सरे बिल हर माह भर भी दिए| दुकान कम खुलने की वजह से कुछ महीनो के बिल में दुकान की शटर बंद दिख रही है पर अगले 1.2 महीने में जब दुकान खुली मिली तब भी पिछली वाचन रीडिंग 2310 ही हर बिल में आती रही |

अगस्त 2018 में उपभोगता को Rs.2973 का बिल आने पर उपभोगता का धयान बिजली बिल पर पड़ा और देखा के बिल में पिछले 6 माह के सभी बिलों में पिछली वाचन यूनिट 2310 आरही थी जिसकी वजह से और पहले माग के बिल भी चेक किये जिससे यह पता चला के ये घपला तो पुरे 2 साल से चल रहा था | उपभोगता ने इस घटना के सन्दर्भ में जब सम्बंधित झोन के AE से बात की तो उनका कहना था के ऐसा होता रहता है और अपने कर्मचारियों की गलती को छुपाते हुए उल्टा उपभोगता को ही बिल जल्द से जल्द भरने को कहा जबकि उपभोगता से खपत से जयादा का बिल भरवाया जा रहा है| पोस्ट में निचे सभी बिलों को साझा किया जा रहा है ताकि आप सब को पता चल सके के MPEB O.P.H South Ware House Road के इस झोन में तो मीटर रीडर ने मक्कारी की सारी हदे ही पार कर दी है | इस बिल में जोन के मीटर रीडर की ID “chouhan” दिख रही  है | इस झोन के AE व JE मीटर रीडर्स के द्वारा हो रही गड़बड़ियो पर लगाम लगाने में भी असमर्थ है और उपभोगता के शिकायत करने पर उन्हें भी अनदेखा करते है|

जेसा की आप जानते है हमारी इस वेबसाइट पर उन्ही बिल्स को पब्लिकली शेयर करते है जो उपभोगता स्यमं हमे बिल्स भेजते है पर ऐसे हजारो बिल्स है जो हमारे पास नहीं आते और किसी को इस तरह की गड़बड़ी के बारे में पता नहीं चलता| MPEB के बोहोत से झोन में मीटर रीडर्स द्वारा रीडिंग लेने में इस तरह की गड़बड़ी ज्यादातर सामने आ रही है | इस बिल में हर महीने वाचन रीडिंग के नाम पर 31 यूनिट का बिल महीनो से आ रहा है जो की आसानी से मालूम पड़ रहा है के ये आकडे अनुमानित रीडिंग ठीक से ना लेने की वजह से आरहे है और हर महीने MPEB O.P.H South Ware House Road के इस उपभोगता को अनुमानित बिल ही भेजे जा रहे है|

 

 

(Visited 390 times, 1 visits today)

Leave a Reply